Thursday, 17 October 2019, 4:08 AM

साहित्य

दुःखद सेल्फी

Updated on 30 May, 2019, 9:13
  वंदना पुणतांबेकर इस साल काव्या ने नाइंथ क्लास की परीक्षा पास की थी। पापा से पास होने की खुशी में मोबाइल की मांग कर उठी। अपनी प्यारी बच्ची को अच्छे नंबरों से पास होने पर।मां प्यार से बोली....,"ले दो इसको भी एक मोबाइल आजकल तो सभी के पास होते हैं,अब... आगे पढ़े

जल मटका वार्तालाप

Updated on 30 May, 2019, 9:07
डां अंजुल कंसल "कनुप्रिया"/ जल कहे मटके से,कभी न कर अभिमान परोपकार कर सदा,बना रहे मान सम्मान।   मटका बोला जल से ,तू है मूल्यवान  बुझाता प्यास सबकी,देता जीवनदान।   जल दुखी हो बोला,सूख रहे सरोवर ताल मनुष्य व्यर्थ बहा रहा,समस्या है विकराल ।   मटका रुआंसा हो बोला,मैं मिट्टी से बना हूं इक दिन फूटूंगा,मिट्टी में ही मिल जाऊंगा ।   मटका... आगे पढ़े

बेबहर

Updated on 30 May, 2019, 9:00
गजल/अंजू निगम गुजरती हूँ तेरी गली से कहानी बनकर, उतरता जाता आँखो में वीरानी बनकर| आज रेत पर देखे तेरे कदमो के निशां, उभरती रही पीली यादें रुहानी बनकर| सदा आती है उन खंडहरों से आज भी, हमारे वस्ल-ए-इश्क की निशानी बनकर| बोसे-वफा का आलम रहा इस कदर जो, मंजर में बसा है आज भी जुबानी बनकर| पतझड़ भी "अंजू" गिरा... आगे पढ़े

आँचल और आस का कपड़ा

Updated on 27 May, 2019, 10:19
पिंकी तिवारी / "माँ, ये साड़ी बहुत सुन्दर लग रही है, हल्का गुलाबी रंग बहुत पसंद है मुझे । कहाँ से ली अपने? वैसे ज़्यादा महँगी नहीं लग रही है ।" एक ही साँस में आरती ने मायके आते ही सवालों की झड़ी लगा दी । "ये तेरी नानी जी की... आगे पढ़े

कहां हैं वो...

Updated on 27 May, 2019, 10:07
स्वाति जोशी/ वो जो बारिशों में भीग जाया करते थे, रुह का क़तरा बनके, जाने उन एहसासों का, अब कहाँ है ठिकाना.. थिरक जाती थीं जो धड़कनें, सांसों की झंकार पर, वो आवाज़ कहाँ, वो अंदाज़ कहाँ.. हुई मुद्दतें जब साथ रहते थे सभी, ज़िक्र भी अब किसी का, न किसी को है गवारा.. उम्र की बस्ती से... आगे पढ़े

नारी ही क्यूं?

Updated on 27 May, 2019, 10:01
अपूर्वा पवन बर्वे/ हमेशा नारी ही क्यूं छोड़े अपना घर, अपना संसार अपना प्यार , अपना परिवार....... हमेशा नारी ही क्यूं सहे ताने ,गुस्सा, अपमान ...... हमेशा नारी ही क्यूं सुने सभी कि बात जज्बात सभी के हास- परिहास ..... हमेशा नारी ही क्यूं त्यागे अपने सपने, अपनी खुशी अपना वजूद, अपनी उम्मीद ..... नारी के लिये ही क्यूं है  मान... आगे पढ़े

नदिया की जु़बानी

Updated on 21 May, 2019, 11:43
डॉ. चंद्रा सायता मनुपुत्र.के मानस को यूं देख विव्हल, मौन खडी़ मैं मन ही मन अकुला रही। खाली खाली अपना आंचल निहार, ' प्यास लगी है?' कहते भी सकुचा रही।   क्षीण जलधार से जैसे तैसे लिखी मैंने, खुरदुरे ज़मीनी कागज पर एक इबारत। कभी न सोचा था, होगा यह अंजाम मानव यूं प्रकृति से करेगा ऐसी शरारत।   मेरा गुनाह... आगे पढ़े

सदमा

Updated on 21 May, 2019, 11:33
अविनाश अग्निहोत्री / जल्दी अमीर बनने के चक्कर मे अशोकबाबू के बेटे को शेयर बाजार में बड़ा घाटा हो चुका था।जिसे पाटने में वो अपना पुश्तेनी घर भी गिरवी रख चुका था।घर पहुँचे कर्जदारों से ,यह बात जब अशोकबाबू को पता चली तो वह स्वाभिमानी व्यक्ति बेचैन हो उठे। अपने बेटे... आगे पढ़े

रिश्ता

Updated on 16 May, 2019, 11:58
/ कमल शर्मा रोहन अपनी मां मीनाक्षी के एकाकी जीवन से चिंतित था तो अलका को अपने पापा अशोकजी का अकेलापन बर्दाश्त नहीं हो रहा था. अत: अशोकजी शाम को अपने घर की छत पर टहल रहे थे. एक मोटरसाइकिल सवार गेट के सामने आ कर रुका, जिस का चेहरा हैलमेट में... आगे पढ़े

मां के लिये

Updated on 16 May, 2019, 11:56
/ सरोज गुप्ता संध्या के दोनों बच्चे बेहद उत्साहित हो रहे थे क्योंकि अगले इतवार को ही मदर्स-डे आ रहा था। चिंटू और प्रिया मिलकर आपस में योजना बना रहे थे कि इस दिन को कैसे मनाया जाए। अभी चार-पांच दिन का समय था। दोनों ने अपने हाथों से एक सुंदर-सा... आगे पढ़े

मतदान अवश्य करें

Updated on 16 May, 2019, 11:41
/  डॅा.  अंजुल कंसल "कनुप्रिया" अपने अधिकारों का सम्मान करें आप सब मिल कर विचार करें।   विवेकपूर्ण इस बार मतदान करें अमूल्य वोट को देश के नाम करें।   मतदान केंद्र स्वयं अवश्य जाएं साथ में परिवार को भी ले जाएं।   आस- पड़ोस का ध्यान रखें बडे -बुजुर्गों को संग ले जाएं।   दिव्यांगों से अवश्य वोट डलवाएं व्यवस्था कर बूथ तक... आगे पढ़े

सबक़

Updated on 8 May, 2019, 9:02
/जितेंद्र शिवहरे नीमा आज बहुत खुश थी। उसे पिता ने आज पहली बार जवाबदारी वाला काम सौंपा था। लड़की होने के कारण आये दिन घर में पक्षपात का शिकार हो चूकी नीमा ने कई बार इसका विरोध किया था। साथ ही नीमा अपने भाई की तरह पिता की किराना दुकान बेहतर... आगे पढ़े

बंकू की जीत का राज़

Updated on 7 May, 2019, 10:07
बाल कहानी/देवेन्द्रराज सुथार विश्व स्वास्थ्य दिवस पर होली पब्लिक स्कूल में दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन होने वाला था। सभी बच्चों में दौड़ को लेकर चर्चाएँ हो रही थीं। प्रथम स्थान हासिल करने वाले विजेता को साइकिल देकर पुरस्कृत किया जाना था। सभी की नजरें दौड़ जीतकर साइकिल हासिल करने पर थी।... आगे पढ़े

आस्था के अंकुर

Updated on 13 April, 2019, 9:33
 मंजुला भूतड़ा/ नई सदी में नई आस्था के अंकुर लहराएंगे, सुख वैभव का अमर उजाला घर आंगन में लाएंगे।   भेद भाव के जाल काट कर मैत्री भाव बढ़ाएंगे, छू लेंगे अंतर्मन को हम ऐसी दया दिखाएंगे।   द्वेष भाव हिंसा से परे हो ऐसी युक्ति लगाएंगे, अब तक जो भूलें की हमने उनको न दोहराएंगे।   कैसी राह चलें हम आगे चिन्तन करते जाएंगे, दुःखी न... आगे पढ़े

जय जय मां : हाइकु

Updated on 13 April, 2019, 9:27
आशा जाकड़ / दुर्गा मां आई ढेरों  खुशियां  लाई बजे  बधाई  हे दयालु मां भक्तों  पे दया कर आशीष दे मां  मां में  है आस्था  दूर करेगी व्यथा सुन पुकार  मां कृपा कर दुखों  का नाश कर पाय लागू  मां मां कालजयी  तू है वात्सल्यमयी करुणामयी चीख पुकार  दुष्टों का नाश कर उठा कटार मां कहाँ  है तू आजा दर्शन  देदे  आशीर्वाद दे पहाड़ों वाली भक्तों की दुलारी मां  तू है प्यारी मां जगदम्बे मां तुझमें दुर्गा ... आगे पढ़े

दोस्ती

Updated on 13 April, 2019, 9:25
 मीनू मांणक / दोस्ती की ये सौग़ात हमेशा याद रखना । दिल में दोस्तों की भी जगह बनाये रखना ।। कितनी भी रूकावटें आएँ राहों में । सच्ची है ग़र दोस्ती तो निभाये रखना ।। पाई तेरी दोस्ती तो , मशहूर हो गये । मुस्कुराए तेरी हँसी में तो ग़म दूर हो गए।। दोस्ती ग़म नहीं खुशियों... आगे पढ़े

हरी घास पर क्षण भर अज्ञेय

Updated on 11 April, 2019, 10:58
  देखती है दीठ क्षमा की वेला एक आटोग्रॉफ़ तुम्हीं हो क्या बन्धु वह प्रणति राह बदलती नहीं विश्वास का वारिद किरण मर जाएगी शक्ति का उत्पाद पराजय है याद दीप थे अगणित खुलती आँख का सपना पावस-प्रात सागर के किनारे दूर्वांचल कितनी शान्ति ! कितनी शान्ति ! कतकी पूनो वसंत की बदली मुझे सब कुछ याद है अकेली न जैयो राधे जमुना के तीर जब पपीहे ने पुकारा माहीवाल से शरद क्वाँर की... आगे पढ़े

अहसास

Updated on 11 April, 2019, 10:49
कहानी/  रुपेंद्र शर्मा/                   हैलो..........हैलो........... ,            थोड़ी देर के सन्नाटे के बाद दबे से स्वर में आवाज आती है........., हैलो.................... मैं राज बोल रहा हूँ, क्या तुम मुझे सुन रही हो । हाँ सुन रही हूँ, पहचाना मुझे, पिया बोल रही हूँ। अपना परिचय देने की जरूरत नहीं है,... आगे पढ़े

डॉ चंद्रा सायता की लघु कथाएं

Updated on 11 April, 2019, 10:38
तलाक  तलाक  तलाक। जबसे झूठ की मुलाकात दौलत से हुई थी, एक दूसरे को पसंद करने लगे थे। पसंद दोस्ती में और दोस्ती निकाह में तब्दील हो गई। दोनो इंसान के जेहन में घर बनाकर रहने लगे। एक दिन झूठ कानून की गिरफ्त में आ फंसा। बुरी तरह जकड़ा जा चुका था। उसके पास अब... आगे पढ़े

धनुषाकार पिरामिड

Updated on 7 April, 2019, 11:43
डा` अंजुल कंसल"कनुप्रिया"   हां  रंग गुलाल अबीर भी झरी फुहार लाल गाल भाल रंगों का है त्योहार गिले शिकवे भूल पिचकारी भर खूब मनाई सखि होली हंसते  हुए रे   है आई रंगीली होली खेली रंग पंचमी झूमते नाचते फगुआ गीत गाएं नाचें धूम मचाएं है आखिरी दिन होली की करें मुस्कराते विदाई रंग रे   ... आगे पढ़े

मेरा प्यारा शहर ...

Updated on 7 April, 2019, 11:39
देवेंद्र बंसल / मालवा का यह शहर आबो हवा में निराला है सामाजिक और संस्कृति प्रेम यहाँ की विशेषता है हर रंग में रंगा यह शहर भारत का ह्र्दय स्थल है स्वच्छता की शिखरता पाकर मस्तक हमारा उँचा है राष्ट्रीयता पर भी हमारे शहर के अनेक तारे हैं ओंकार महाकाल की कृपा से बसे यहाँ सारे... आगे पढ़े

होली तुम बिन

Updated on 20 March, 2019, 0:30
/शोभारानी तिवारी तुम बिन मांग सूनी हुई, सूना दिन सूनी रात , आंखें गंगा जमुना बहती , बुझ गई सारी मन की आस , रंगीन दुनिया बेरंग हुई , अपने मन को बहलाऊँ कैसे ? किसे रंग लगाऊँ सजनवा ?बताओ होली खेलूं कैसे ? कहा था होली पर आऊंगा , सब के लिए कुछ ना कुछ ना ,लाऊंगा , मुन्नी... आगे पढ़े

अहसास

Updated on 20 March, 2019, 0:27
/ देवेन्द्र बंसल     माटी की भीनी भीनी सुगंध में      अपनेपन का अहसास है      धूल भरी राहों में खोजता जीवन है      बचपन से यौवन का हर श्रांगार हैं      माँ के आँचल का महकता प्यार है      रोते मुस्कुराते मंज़िलो की तलाश है      सुबह की ठंडक में दिन का एहसास है     ... आगे पढ़े

प्रेम पुजारी

Updated on 14 March, 2019, 1:19
   कहानीकार/ जितेंद्र शिवहरे राहुल के व्यवहार में आये सकारात्मक परिवर्तन को देख घर के सदस्य बहुत खुश थे। अब वो पहले की तरह देर रात तक घर से बाहर रहने वाला और बात बात पर मुंहजोरी करने वाला लापरवाह राहुल नहीं रहा। अब वह समझदारी का परिचायक था। उसकी अस्त-व्यस्त... आगे पढ़े

गर्व है नारी होने पर

Updated on 9 March, 2019, 8:24
◆ रश्मि  सक्सेना    आधी दुनिया मैं कहलाऊँ ,मुझे गर्व है नारी होने पर प्यार,त्याग और श्रद्धा, समर्पण की मूरत हूँ धरती पर   अपनों के हर ख़्वाब को पूरा करने में जुट जाती हूँ उनकी ख़ुशियों में ही अपनी ख़ुशियाँ सारी पाती हूँ   संस्कृति,शिक्षा,कला,खेल, मीडिया,कारपोरेट कौन सा ऐसा क्षेत्र जहाँ पर कदम नहीं मेरा हो   धरती से आकाश... आगे पढ़े

मुखर होना होगा

Updated on 4 March, 2019, 14:22
मनीषा व्यास / भीग गयी रक्त में सैनिकों की वर्दी दे गये मुल्क को अपनी जवानी   दुनिया तो गुलाब देकर अपनी  मोहब्बत रिझाने में लगी थी  पुलवामा में सैनिकों ने दे दी क़ुर्बानी  अब तो ईंट का जवाब पत्थर से देना होगा. चुप  नहीं रहना है अब मुखर होना होगा . माँ के आँचल को छलनी करने वालों से  संघर्ष... आगे पढ़े

महाशिवरात्रि पर्व पर दोहे  

Updated on 4 March, 2019, 13:40
…रश्मि सक्सेना निराकार शिवरूप है , शिव हैं आदि अनंत । शिव का मतलब शून्यता , शिव अनादि भगवंत ।। शोभित चंद्र ललाट पर , कर में लिए त्रिशूल । शंकर भोलेनाथ हैं , सकल सृष्टि के मूल ।। चतुर्दशी तिथि फागुनी , महाशिवरात्रि पर्व । पूजन शिवजी का करें , नर-नारी गंधर्व ।। गौरा जी को... आगे पढ़े

विरासत

Updated on 2 March, 2019, 1:30
पिंकी पोरवाल/ कौन कहता है आप चले गए? आज भी बसे हो गायत्री चालीसा के शब्दों में, क्योंकि सुबह की पहली प्रार्थना आपने ही तो सिखाई थी ! कौन कहता है आप चले गए? आज भी बसे हो शीशम के पेड़ की छाँव में, क्योंकि वो आज भी वहीँ है जहाँ कहानिया सुनी थी आपसे ! कौन... आगे पढ़े

हे कलम

Updated on 26 February, 2019, 0:35
/ मीनू मांणक   हे कलम , आज फिर जय बोल ,  देश के उन वीर जवानों की ।   सरहद पर जो शहीद हुए, भारत माँ के उन सपूतों की ।।   उदास देश , आँखें हैं नम , तूफान उठा है सीने में ।   किया है वार छुप कर नापाक कायरों ने , उड़ा दो चिथड़े दुश्मनों के... आगे पढ़े

ब्लड ग्रुप

Updated on 26 February, 2019, 0:30
             /वंदना पुणतांबेकर रोहित दौड़ता हुआ हॉस्पिटल पहुंचा।नेहा का दिल दहला देने वाला एक्सीडेंट हो गया था।इमरजेंसी में ब्लड डोनर की आवश्यकता थी।रोहित ने सभी ग्रुप पर डाल दिया था।लेकिन अभी तक उसे कोई नही मिला था।वह बैचेनी से किसी न किसी के फ़ोन का इंतजार... आगे पढ़े