Wednesday, 24 April 2019, 2:04 PM

मेरी कलम से

राजनेताओं की सफेद पोषाक, स्याह दिल

Updated on 16 April, 2019, 15:37
  पंकज जोशी लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान में अब कुछ ही घंटे शेष हैैं. जैसे-जैसे चुनाव प्रक्रिया उत्तरार्ध की ओर बढ़ रही हैै, प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ जहरीले शाब्दिक बाणों का प्रयोग और तेज हो गया है. हर कोई अपने तरकश में रखे  तीरों की धार नए-नए तीक्ष्ण शब्दों से... आगे पढ़े

चुनावी सरगर्मी और आईपीएल की जंग

Updated on 12 April, 2019, 14:18
डॉ. महेश परिमल देश में भले ही चुनावी लहर जोरों की चल रही हो, पर हममें से बहुत से ऐसे लोग हैं, जिन्हें चुनाव अच्छा नहीं लगता। उन्हें तो इन दिनों आईपीएल का बुखार चढ़ा हुआ है। वे नेताओं के झूठे आश्वासनों में नहीं उलझते, उन्हें तो चाहिए खिलाड़ी की स्पिरीट... आगे पढ़े

व्रत करें तो प्रण भी लें------

Updated on 11 April, 2019, 11:04
संध्या रायचौधरी / हमारे देश में जितने देवी-देवता हैं उतने ही व्रत, उपवास हैं। कई महिलाएं तो सप्ताह में चार दिन व्रत के नाम पर कभी भी कुछ भी खाकर अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करती रहती हैं। जबकि ऐसा तो न तो देवी-देवता चाहेंगे और न ही डॉक्टर इसकी सलाह... आगे पढ़े

राहुल गांधी - मुद्दे नहीं, बस बुरे बोल

Updated on 7 April, 2019, 10:02
 पंकज जोशी अब जबकि लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान को एक सप्ताह भी नहीं बचा है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी पार्टी की आसन्न पराजय को देख जुबान पर अंकुश नहीं लगा पा रहे हैं. अब तक विभिन्न चैनलों पर आए तमाम सर्वेक्षण मोदी की सत्ता में वापसी की ओर इशारा... आगे पढ़े

फागुन यादगार कर दें

Updated on 20 March, 2019, 0:31
         / " मीनू मांणाक " बसंत आया , प्रकृति ने बिखेरी रंगों की बहार । प्रेम ओर खुशियों की पुरवाई चारों ओर झूम उठी । सब हृदय से बसंत का  स्वागत कर रहे थे । तभी प्रेम के रंगों से भरी पुरवईयां , गम की बदली में छा गई । ,... आगे पढ़े

लौटना होगा फिर किस्सों की जादू भरी दुनिया में

Updated on 14 March, 2019, 1:17
आज जब मैं कभी कभी अपना बचपन याद करती हूँ तो किस्से कहानियों की जादुई दुनिया से अपना बेपनाह लगाव याद करके स्वयं ही मुस्कुरा उठती हूँ। वो जादूनगरी में विचरण, वो रहस्य - रोमांच पढ़ कर मन ही मन डरते जाना पर आगे पढ़ते जाना कि अब क्या होगा?... आगे पढ़े

*सवाल वो पूछ रहे हैं, जिनके दामन में गुनाह ही गुनाह!*

Updated on 4 March, 2019, 20:48
 - *गोविंद मालू*   इन दिनों हमारे देश में राजनीति का विकृत स्वरुप सामने आ रहा है। राजनीति के लिए पड़ौसी देशों की तारीफ हो रही है और देश के राष्ट्राध्यक्षों से सबूत मांगे जा रहे हैं। जिनकी प्रचार की भूख नहीं मिट रही, वे भारत माता का सौदा पाकिस्तान से कर... आगे पढ़े

*इमरान तुमको शर्म क्यों नहीं आती?* 

Updated on 21 February, 2019, 21:08
गोविन्द मालू   इमरान तुम क्रिकेट के श्रेष्ठ खिलाड़ी रहे हो, सिर्फ एक देश के ही नहीं, बल्कि लम्बे समय तक विश्व क्रिकेट के हीरो रहे हो! मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि कोई व्यक्ति जब लम्बे समय तक जिस क्षेत्र में रहता है, उसमें उसका प्रभाव परिलक्षित होने लगता है। खिलाड़ी होने... आगे पढ़े

छूना है आसमान

Updated on 20 February, 2019, 12:03
सुखद अनुभूति/ महिमा वर्मा    पिताजी की पुण्यतिथि के अवसर पर यह सोचा गया कि आज का दिन एक अच्छी सोच के साथ कोई सकारात्मक कार्य करके व्यतीत किया जाए। परिवार जन मिलें तो मगर उस दिन को और सार्थक एवं यादगार बनाने के लिए किसी विशिष्ट जगह पर सब एकत्रित हों।... आगे पढ़े

हमारी खुशनुमा जिंदगी का राज: उनके गीतों रुपी फूलों की गंध

Updated on 18 February, 2019, 8:46
मीना गोदरे "अवनि "    बात उन दिनों की है जब मैं बी.ए .के साथ ही संस्कृत इन डिप्लोमा का कोर्स कर रही थी उस दिन परीक्षा लेने एक्ट्रानल आने वाले थे यूनिवर्सिटी पहुंचकर हम सब सहेलियां तैयारी में व्यस्त डिस्कस कर रहे थे तभी एक सहेली लालगुलाब का खिला ताजा बहुत... आगे पढ़े

आँखों के इतने ऑपरेशन कर दिए कि डॉ हार्डिया की अंगुली ही टेढ़ी हो गई!

Updated on 1 February, 2019, 8:08
पद्मश्री अलंकरण के लिए चयन 🔹इंदौर / कीर्ति राणा  सुनकर आश्चर्य हो सकता है लेकिन यह हकीकत है, डॉ पीएस हार्डिया आँखों के 6.50 लाख ऑपरेशन कर चुके हैं। इसी विशिष्ट सेवा के लिए उन्हें पद्मश्री से अलंकृत करने का निर्णय केंद्र सरकार ने लिया है। भेंगापन दूर करने के साथ ही... आगे पढ़े

सरकार और विहिप की मजबूरी में उलझा राम मंदिर

Updated on 28 January, 2019, 21:35
००००इन मजबूरियाँ का खुलासा करते हुए विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष जस्टिस वीएस कोकजे बोले  कम से कम बीजेपी साथ तो दे रही है, इसलिए मोदी सरकार पर निर्भर हैं।  🔹 कीर्ति राणा  मोदी सरकार से लेकर संघ विहिप आदि चाहते हैं कि राम मंदिर निर्माण जल्द से जल्द शुरु हो जाए लेकिन मजबूरी... आगे पढ़े

बच्चों को दिखाएँ किताबों की दुनिया

Updated on 27 January, 2019, 10:41
महिमा वर्मा  आज जब मैं कभी कभी अपना बचपन याद करती हूँ तो किस्से कहानियों की जादुई दुनिया से अपना बेपनाह लगाव याद करके स्वयं ही मुस्कुरा उठती हूँ। वो जादूनगरी में विचरण, वो रहस्य - रोमांच पढ़ कर मन ही मन डरते जाना पर आगे पढ़ते जाना कि अब क्या... आगे पढ़े

बंबई में वो पहला दिन : जब मेरे अन्नदाता और आश्रयदाता बने कमलेश्वर

Updated on 27 January, 2019, 10:06
🔹कीर्ति राणा अस्सी के दशक का वह किस्सा पिछले दिनों फिर याद आ गया जब सूत्रधार के सत्यनारायण व्यास द्वारा कमलेश्वर जी की स्मृति में आयोजित समारोह में  चित्रकार-साहित्यकार प्रभु जोशी ने कमलेश्वर जी से जुड़ी यादों  को सुनाते हुए मेरा नामोल्लेख किया। समारोह समापन पश्चात मैंने जब कमलेश्वर जी की... आगे पढ़े

मप्र में छाए हुए हैं डॉन....डकैत...खान....बॉस...!

Updated on 11 January, 2019, 23:00
दरअसल/कीर्ति राणा  निज़ाम बदला, मिजाज बदल गए और राजनीतिक हवा भी बदल गई लेकिन इस बदली हवा के झोंके को अभी तक भी कई लोग या तो महसूस नहीं कर पाए हैं या जानबूझकर अंजान बने हुए हैं।कब, क्या, कहां, कैसे बोलना है यह ध्यान नहीं रखने का ही परिणाम रहता... आगे पढ़े

'मिशन फ़र्स्ट रैंक'

Updated on 9 December, 2018, 11:36
  / महिमा वर्मा  पूरा परिवार जी जान से जुटा हुआ है 'मिशन  शत प्रतिशत' में जिसे पूरा करने के लिए बच्चों को राजकुमार या राजकुमारी की तरह ट्रीट किया जा रहा है कि किसी भी काम में उनका समय खराब न होने पाए एवं मिशन शत प्रतिशत की सफलता भी 100%... आगे पढ़े