डिजाइन  फाइनल… जल्द रूका काम होगा शुरू… मुख्यमंत्री ने 4 माह में ओवरब्रिज पूरा करने के दिए निर्देश

इंदौर। आज का दिन इंदौर (Indore) के लिए महत्वपूर्ण है। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari)  के साथ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान (chief Minister Shivrajsingh Chouchan) भी मौजूद रहेंगे, जिसमें विभिन्न सडक़ परियोजनाओं से लेकर मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब (Multimodal Logistics Hub)  के प्रोजेक्टों (Project) को मंजूरी मिलेगी। वहीं बीआरटीएस कॉरिडोर (BRTS Corridor)  पर प्रस्तावित एलिवेटेड ब्रिज पर भी निर्णय संभव है, जिसके लिए दो साल पहले ही 350 करोड़ रुपए केन्द्र मंजूर कर चुका है। वहीं बंगाली ओवरब्रिज का निर्माण भी जल्द शुरू होगा। लोक निर्माण विभाग ने जनप्रतिनिधियों, विशेषज्ञों और अफसरों की सलाह पर भेजी गई ओवलशेप की रॉटरी की डिजाइन फाइनल कर दी है। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने विभाग को निर्देश दिए हैं कि चार माह में इस ओवरब्रिज का निर्माण पूरा हो जाए। यानी जनवरी तक यह ओवरब्रिज बन जाएगा। बायपास की सर्विस रोड से लेकर उस पर बनने वाले फ्लायओवर के प्रस्ताव पर भी निर्णय होना है।

गडकरी आज दे सकते हैं इंदौर को कई बड़ी सौगातें
बीआरटीएस कॉरिडोर, एलिवेटेड के साथ-साथ बायपास के सर्विस रोड को चौड़ा करने के अलावा लॉजिस्टिक हब का एमओयू तो साइन होना ही है, वहीं श्री गडकरी आउटर रिंग रोड के पश्चिमी हिस्से को मंजूरी के साथ ही अन्य सौगातें भी इंदौर को दे सकते हैं। बायपास पर तीन ओवरब्रिजों के निर्माण का प्रस्ताव भी तैयार किया गया है। वहीं मौजूदा सर्विस रोड को भी फोर लेन में परिवर्तित किया जाना है, जिसके लिए नगर निगम ने 83 करोड़ रुपए का एक प्रस्ताव तैयार किया है। सांसद शंकर लालवानी के मुताबिक प्रयास किए जा रहे हैं कि श्री गडकरी जी से ही सर्विस रोड को चौड़ा करने की राशि मंजूर करवाई जाए। साथ ही 200 करोड़ के तीन फ्लायओवर भी मंजूर हो जाएं।

400 करोड़ से बनेगा मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क भी
इंदौर के पास बेटमा-मांचला में 400 करोड़ रुपए की लागत से मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब तैयार किया जा रहा है। 150 एकड़ के इस हब के लिए पिछले दिनों एनएचआई की नई यूनिट के सीईओ प्रकाश गौर भी इंदौर आए और उन्होंने जमीन भी देखी और फिर सांसद श्री लालवानी ने केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी के समक्ष प्रस्ताव रख उस पर सैद्धांतिक सहमति भी करवाई। एमपीआईडीसी के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रोहन सक्सेना के मुताबिक बीओटी फार्मूले पर यह लॉजिस्टिक पार्क बनाया जा रहा है। यहां उत्पादित होने वाली वस्तुएं दूसरे राज्यों के साथ-साथ देश के बाहर भी भेजी जाएगी। इंदौर को बेहतर कनेक्टीविटी भी इससे हासिल होगी।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here