उत्तर प्रदेश के हापुर के एक छोटे से गांव धनौरा के रहने वाले कार्तिक त्यागी बेहद गरीब परिवार से हैं।कार्तिक त्यागी ने पहले ही मैच में क्विंटन डिकॉक जैसे बड़े बल्लेबाज को आउट कर अपनी काबिलियत का परिचय दिया।त्यागी ने अपनी गेंदबाजी के दम पर सबसे पहले उत्तर प्रदेश के अंडर-14 टीम में जगह बनाई।

सितारों से सज्जित मुंबई इंडियंस के खिलाफ  युवा तेज़ गेंदबाज कार्तिक त्यागी को आईपीएल में डेब्यू करने का मौका मिला। शिवम मावी, कमलेश नागरकोटि और राहुल चहर जैसे युवा गेंदबाज पहले ही आईपीएल में अपनी छाप छोड़ चुके हैं। ऐसे में कार्तिक त्यागी पर पहले ही मैच में अच्छा प्रदर्शन करने का दबाब था। कार्तिक त्यागी ने पहले ही मैच में क्विंटन डिकॉक जैसे बड़े बल्लेबाज को आउट कर अपनी काबिलियत का परिचय दिया। 

उत्तर प्रदेश के हापुर के एक छोटे से गांव धनौरा के रहने वाले कार्तिक त्यागी बेहद गरीब परिवार से हैं। आईपीएल में खेलना उनके लिए कतई आसान नहीं था। बचपन में अपने पिता के साथ खेती करने वाले त्यागी ने लंबे संघर्ष के बाद यह मुकाम पाया है। गरीबी की वजह से एक वक्त ऐसा भी था जब पेट भरने के लिए उन्हें अपने पिता के साथ अनाज की बोरियों को ट्रक्टर और बस पर रखना पड़ता था। 

यूपी के लिए खेल चुके हैं रणजी ट्रॉफी

इतने संघर्षों के बाद भी त्यागी का क्रिकेटर बनने का जज्बा कभी खत्म नहीं हुआ। त्यागी ने अपनी गेंदबाजी के दम पर सबसे पहले उत्तर प्रदेश के अंडर-14 टीम में जगह बनाई। इसके बाद विजय मर्चेंट ट्रॉफी अंडर-16, यूपी अंडर-19 और यूपी के लिए रणजी ट्रॉफी में भी खेले।  2020 अंडर-19 विश्व कप के दौरान त्यागी को एक नई पहचान मिली। 140 की गति से गेंदबाजी करने वाले इस बॉलर की चर्चाएं होने लगी। 

Suresh Raina ने दी करियर को नई दिशा

कार्तिक त्‍यागी को यहां तक पहुंचने में पूर्व भारतीय ऑलराउंडर सुरेश रैना का भी बहुत बड़ा हाथ रहा है। रणजी टीम में शामिल करने के लिए त्यागी की वकालत रैना ने ही की थी। रैना के कारण ही उन्हें रणजी खेलने का अवसर मिला। तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार ने भी इस युवा खिलाड़ी का भरपूर साथ दिया था। त्यागी आज भी खुद को रैना के एहसानमंद बताते हैं।  

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here