मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के पुराने साथी साथ छोड़ रहे हैं। यह भाजपा के लिए चिंताजनक है। भाजपा को इस बारे में आत्मचिंतन करना चाहिए। 

उद्धव ने बुधवार को उस्मानाबाद में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि एकनाथ खडसे भारतीय जनता पार्टी के पुराने शिल्पकारों में से एक रहे हैं। आज उन्होंने महाविकास आघाड़ी में शामिल होने का निर्णय लिया है। खडसे की राजनीति में और महाराष्ट्र में अपनी एक अलग पहचान है। खडसे के इस निर्णय का स्वागत है लेकिन आखिर भाजपा से पुराने नेता अलग क्यों हो रहे हैं। पुराने साथी जिन्होंने भाजपा को बढ़ाने का काम किया है, वह सभी भाजपा का साथ क्यों छोड़ रहे हैं। उनके अलग होने पर भाजपा को आत्मचिंतन करना चाहिए। शाखाएं कितनी भी बढ़ जाएं, लेकिन अगर नींव के पत्थर हिल रहे हैं तो यह भाजपा के लिए चिंताजनक है।

महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने कहा कि भाजपा को सूबे की सत्ता तक पहुंचाने में खडसे का बहुत बड़ा योगदान था। लेकिन सत्ता में पहुंचने के बाद खडसे को जो सम्मान मिलना चाहिए था, नहीं मिला। थोरात ने कहा कि राज्य में भाजपा के पतन की शुरुआत तो जब शिवसेना उससे अलग हुई उसी समय से शुरू हो गई थी। खडसे का  महाविकास आघाड़ी में स्वागत है। उनके अनुभव का लाभ राज्य की जनता को होगा।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here