भोपाल। अगले माह नगरीय निकाय चुनावों की घोषणा की संभावना को देखते हुए अभी से दोनों प्रमुख राजनैतिक दल भाजपा और कांग्रेस ने अपनी चुनावी तैयारियों को तेज कर दिया है। इस वजह से अभी से प्रत्याशी तय करने की कवायद पर दोनों दलों द्वारा पूरा जोर लगाना शुरू कर दिया गया है। इस वजह से बड़े शहरों में महापौर पद को लेकर रणनीति बनाई जा रही है, लेकिन इसमें प्रभावशाली नेताओं द्वारा परिजनों और विधायकों द्वारा खुद के लिए टिकट की दावेदारी किए जाने से टिकट का फार्मूला तय नहीं हो पा रहा है।

भाजपा में तो भोपाल के अलावा इंदौर में महापौर पद के दावेदारों की वजह से यह मामला सुलझ नहीं पा रहा है। दरअसल स्थानीय समीकरणों के साथ सूबे की सियासत के गुणा-भाग भी इन चुनावों में अहम मायने रखते हैं। इसके अलावा प्रत्याशी तय करते समय बड़े नेताओं की पसंद, जीत व खर्च की क्षमता और अन्य समीकरणों को ध्यान में रखकर ही प्रत्याशी का नाम तय किया जाता है। कांग्रेस ने जरूर इंदौर का प्रत्याशी तय कर दिया है, लेकिन भाजपा में अभी फार्मूला का काम ही अटका हुआ है।

भोपाल में महापौर पद के यह चेहरे दावेदार
राजधानी भोपाल में भाजपा की ओर से विधायक कृष्णा गौर, राजो मालवीय, सुषमा साहू, कमलेश यादव, सविता सोनी, उपमा राय की दावेदारी मानी जा रही है, तो कांग्रेस की ओर से पूर्व महापौर विभा पटेल, संतोष कंसाना, शाब्सिता जकी का नाम सामने आ रहा है। भोपाल में हाल के दस सालों तक भाजपा का तो इसके पहले के दस सालों तक लगातार कांग्रेस का कब्जा रह चुका है। 1999-2000 में कांग्रेस से विभा पटेल फिर वर्ष 2004-05 में सुनील सूद जीते थे, उसके बाद भाजपा से कृष्णा गौर और फिर आलोक शर्मा महापौर बन चुके हैं।

भाजपा कर सकती है नया प्रयोग
माना जा रहा है कि भाजपा इस बार बड़े शहरों में शामिल भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में नया प्रयोग कर सकता है। यह प्रयोग नए चेहरों के रुप में किए जाने की संभावना है। माना जा रहा है कि इस बार प्रत्याशी चयन में वरिष्ठों को दरकिनार किया जा सकता है। इसका प्रयोग भाजपा द्वारा संगठन में किया जा चुका है। इसी वजह से ही भोपाल में सुमित पचौरी और इंदौर में गौरव रणदीवे का चयन जिलाध्यक्ष के रुप में किया गया है।

किस दल का क्या हो सकता है फॉर्मूला
प्रत्याशी चयन के लिए भाजपा में जो फॉर्मूला तय किया जा सकता है उसमें  जिताऊ चेहरा, उम्र, हारे न हों, विधायक न हों और उनका नाम रायशुमारी में आने के साथ ही उनकी खर्च करने की क्षमता पर खरे उतरते हों, उधर कांग्रेस में प्रत्याशी चयन में जिताऊ चेहरा, आर्थिक क्षमता, सर्वे में नाम, दिग्गज नेताओं की पसंद को आधार बनाया जा सकता है।

इंदौर से यह हैं दावेदार  
महानगर इंदौर से भाजपा की ओर से पूर्व आईडीए अध्यक्ष मधु वर्मा , पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता , गोविंद मालू, विधायक रमेश मेंदोला, गोपीकृष्ण नेमा, कृष्णमुरारी मोघे के नाम चर्चा में हैं जबकि कांग्रेस से महापौर पद के लिए विधायक संजय शुक्ला का नाम घोषित किया जा चुका है। इंदौर नगर निगम पर वर्ष 2000 से भाजपा का कब्जा है। यहां पर अंतिम बार कांग्रेस की ओर से 1995 में मधुकर वर्मा ने जीत हासिल की थी।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here