डॉ. नवीन जोशी

भोपाल।प्रदेश के स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी ने सभी जिला कलेक्टरों एवं सीएमएचओ को निर्देश भेजकर कहा है कि मेडिकल कालेजों के यूजी एवं पीजी पास आऊट बंध-पत्र वाले 607 डाक्टरों को कर्त्तव्य स्थल पर ड्यूटी ज्वाईन कराये तथा इसकी सूचना ई-मेल पर भेजें। कोविड काल में इन डाक्टरों की कमी को देखते हुये ये निर्देश जारी किये गये हैं। इन बंध-पत्र डाक्टरों की पदस्थापना के आदेश जारी किये जा चुके हैं। उल्लेखनीय है कि बंध-पत्र डाक्टरों को सरकारी अस्पतालों में एक वर्ष की सेवा देना जरुरी होता है।

186 डाक्टरों का बंधपत्र निरस्त :
इधर गुरुवार को स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी ने कड़ा कदम उठाते हुये ड्यूटी ज्वाईन न करने पर 186 बंधपत्र डाक्टरों का बंधपत्र निरस्त कर उनके द्वारा जमा की गई राशि राजसात करने का आदेश जारी कर दिया। इस संबंध में जारी आदेश में कहा गया कि वर्तमान कोविड के सन्दर्भ में बंधपत्र डाक्टरों की सेवाओं की अत्यधिक आवश्यक्ता है परन्तु 186 बंधपत्र डाक्टरों ने अब तक कार्यभार ग्रहण नहीं किया है।

उप वनमंडल मुख्यालय में बदलाव किया

भोपाल।राज्य सरकार ने खण्डवा वन वृत्त में आने वाले शाजापुर वनमंडल के उप वनमंडल के मुख्यालय में बदलाव कर दिया है। ऐसा प्रशासनिक कार्य सुविधा के लिये किया गया है।
दरअसल पहले शाजापुर वनमंडल में ही उप वन मंडल मुख्यालय था। लेकिन 16 अगस्त 2013 को शाजापुर जिले के तोडक़र नया आगर मालवा जिला बनाये जाने से वहां कलेक्टर की पदस्थापना हो गई तथा कलेक्टर को वन संबंधी कार्यों के लिये उप वनमंडल अधिकारी की जरुरत महसूस लम्बे समय से की जा रही थी। इसीलिये उक्त वनमंडल के उप वनमंडल मुख्यालय में परिवर्तन किया गया है।
नवीन व्यवस्था के अंतर्गत उज्जैन वन वृत्त में शाजापुर एवं आगर मालवा दोनों जिले शामिल रहेंगे। वनमंडल का मुख्यालय पूर्ववत शाजापुर जिला मुख्यालय रहेगा। लेकिन उप वनमंडल मुख्यालय अब आगर मालवा जिला मुख्यालय में रहेगा। इस वनमंडल का क्षेत्रफल 77.77 वर्ग किमी है तथा इसमें अब चार परिक्षेत्र और उनके मुख्यालय रहेंगे। यथा सुसनेर, आगर मालवा, शाजापुर एवं शुजालपुर परिक्षेत्र। उल्लेखनीय है कि शाजापुर वनमंडल एवं आगर मालवा उप वनमंडल दोनों की सीमा की उत्तर एवं पश्चिम दिशा में राजस्थान राज्य पड़ता है।
विभागीय अधिकारी ने बताया कि आगर मालवा नया जिला बनने से वहां उप वनमंडल मुख्यालय स्थापित किया गया है। ऐसा प्रशासनिक कार्य सुविधा के अंतर्गत किया गया है।

बीस सफाई निरीक्षकों को मिला समयमान वेतनमान

राज्य के नगरीय प्रशासन विभाग ने नगरीय निकायों में कार्यरत बीस सफाई निरीक्षकों को प्रथम एवं द्वितीय समयमान वेतनमान स्वीकृत किया है।जारी आदेश के अनुसार, 13 सफाई निरीक्षकों यथा बीएस महते, महेशचन्द्र सक्सेना, युनूस उद्दीन कुरैशी, राजेश नेमा, मसूद अहमद सिद्दीकी, विश्वासचन्द्र शर्मा, सेवानिवृत्त चन्द्र माधव मिश्रा, सुनील कुमार तिवारी (इन सभी को 1 अप्रैल 2006 से), योगेन्द्र कुमार गुप्ता (1 जून 2007 से), नसीर खान (3 जुलाई 2007 से), राजेश कुमार सोनी (1 सितम्बर 2008 से), कमलेश शर्मा (16 सितम्बर 2008 से) तथा राजेन्द्र कुमार तिवारी (22 नवम्बर 2008 से) को 20 वर्ष की सेवा पूर्ण करने पर द्वितीय समयमान वेतनमान रुपये 9300-34800 प्लस 4200 दिया गया है।
इसी प्रकार, 3 सफाई निरीक्षकों कमल किशोर भावसार को दस वर्ष की सेवा पूर्ण करने पर 6 नवम्बर 2010 से, अनिल मालवी को 22 मार्च 2009 से तथा दीपक देवगढ़े को 21 अर्पेल 2009 से प्रथम समयमान वेतनमान रुपये 9300-43800 प्लस 3600 प्रदान किया गया है एवं इन तीनों को बीस वर्ष की सेवा पूर्ण करने पर द्वितीय उच्चतर समयमान वेतनमान रुपये 36200-114800 रुपये क्रमश: 6 नवम्बर 2020, 22 मार्च 2019 तथा 21 अप्रैल 2019 से प्रदान किया गया है।
उक्त के अलावा चार सफाई निरीक्षकों राघवेन्द्र शर्मा को 1 अप्रैल 2006 से, सूर्य प्रकाश दुबे को 11 सितम्बर 2006 से, अशोक बाघमरे को 1 अगस्त 2007 से तथा रविन्द्रपाल तिवारी को 1 जुलाई 208 से दस वर्ष की सेवा पूर्ण करने पर समयमान वेतनमान रुपये 9300-43800 प्लस 3600 प्रदान किया गया है।
आदेश में कहा गया है कि उपरोक्तानुसार प्रदान किये गये समयमान वेतनमान का निर्धारण कार्यालय द्वारा किये जाने के पश्चात, उसका अनुमोदन संभागीय संयुक्त संचालक स्थानीय निधि संपरीक्षा से कराया जाना अनिवार्य होगा।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here