चीन के जिस वुहान शहर में सबसे पहले कोरोना संक्रमण का मामला सामने आया था वहाँ की पूरी आबादी की अब कोरोना की जाँच की जाएगी। इस शहर में एक साल बाद पहली बार स्थानीय संक्रमण का मामला सामने आया है। इसी के बाद शहर के अधिकारियों ने मंगलवार को इतने बड़े पैमाने पर जाँच की घोषणा की है।

कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद बड़े पैमाने पर जाँच चीन के कई शहरों में की जा रही है। बीजिंग सहित प्रमुख शहरों में स्थानीय सरकारों ने अब लाखों लोगों का परीक्षण किया है, जबकि आवासीय परिसरों को बंद कर दिया गया है। क्वारंटीन की भी सख़्त व्यवस्था की गई है। एक आधिकारिक बयान में पहले ही कहा गया है कि हुनान प्रांत के केंद्रीय शहर झूझोउ ने सोमवार को 12 लाख लोगों से अधिक निवासियों को अगले तीन दिनों के लिए सख्त लॉकडाउन के तहत घर में रहने का आदेश दिया है, क्योंकि इसने एक शहरव्यापी टेस्टिंग और टीकाकरण अभियान शुरू किया है।

अधिकारियों ने सोमवार को घोषणा की कि शहर में प्रवासी कामगारों के बीच सात स्थानीय रूप से संक्रमण के मामले पाए गए थे। 2020 की शुरुआत में एक अभूतपूर्व लॉकडाउन से शुरुआती प्रकोप को ख़त्म करने के बाद से स्थानीय संक्रमण के मामले नहीं पाए गए थे। स्थानीय स्तर पर संक्रमण के फैलने का मतलब है कि संक्रमित व्यक्ति ने न तो विदेश का दौरा किया है और न ही वह ज्ञात रूप से किसी ऐसे व्यक्ति से संक्रमित हुआ हो जिसने विदेश का दौरा किया है। पूरे चीन में मंगलवार को स्थानीय संक्रमण के 61 मामले सामने आए हैं।

बता दें कि पहली बार यह वायरस जब चीन के वुहान शहर में 2019 के दिसंबर महीने में आया तो विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ का कहना था कि यह एक नया वायरस है। चीन के हुएई प्रांत के वुहान शहर में न्यूमोनिया के कई केस आने के बारे में डब्ल्यूएचओ को 31 दिसंबर 2019 को जानकारी दी गई थी। यह वायरस अलग तरह का वायरस था। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार क़रीब एक हफ़्ते बाद 7 जनवरी को उसे बताया गया कि चीन के अधिकारियों ने एक नये वायरस की पहचान की। यह नया वायरस कोरोना वायरस था।इसके बाद वुहान शहर कोरोना का केंद्र बन गया। लेकिन मार्च-अप्रैल आते-आते वहाँ यह वायरस पूरी तरह नियंत्रण में हो गया, लेकिन दुनिया के दूसरे शहर इसकी गंभीर चपेट में हैं।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here