चंडीगढ़:  कैप्टन अमरिंदर सिंह राजभवन पहुंच कर राज्यपाल बी एल पुरोहित से मिले और इस्तीफा सौंप दिया। इस्तीफे के बाद उन्होंने राजभवन के गेट पर अपनी बात रखी और कहा कि अपमानित महसूस कर रहे थे। जब उनसे पूछा गया कि आगे का रास्ता क्या है तो उनका जवाब था कि पिछले 52 साल से वो राजनीतिक जीवन में हैं और विकल्प हमेशा खुले रहते हैं। उनके पास भी फ्यूचर प्लान है और आगे का फैसला समर्थकों से राय लेने के बाद करेंगे।  जिस पर भरोसा हो आलाकमान उसे सीएम बना दें
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि कांग्रेस आलाकमान को जिस किसी पर भरोसा हो तो उसे सीएम बना दें। लेकिन जिस तरह से पिछले 2 महीने में तीन बार विधायक दल की बैठक बुलाई गई उससे वो अपमानित महसूस कर रहे थे। उन्होंने पंजाब की जनता की सेवा की है। जहां तक पार्टी का सवाल है तो वो कांग्रेस में ही हैं।

अमरिंदर के बेटे रनिंदर सिंह का खास ट्वीट
कैप्टन अमरिंदर के बेटे रनिंदर सिंह ने ट्वीट कर बताया कि वो अपने पिता के साथ राजभवन जा रहे हैं और अब वो परिवार के मुखिया के तौर अपनी भूमिका अदा करेंगे। उन्होंने कहा कि वो बेहद गर्व महसूस कर रहे हैं वो अपने पिता के साथ राजभवन जा रहे हैं। उन्होंने कहा उनके पिता ने पंजाब की जनता का सेवा की है। राजनीति में कुछ ऐसे पल आते हैं जब फैसला लेना पड़ता है।

अमरिंदर सिंह के प्रेस सचिव ने किया था खास ट्वीट
इस बीच कैप्टन अमरिंदर सिंह के प्रेस सचिव ने ट्वीट कर कहा कि अगर कोई धोखा दे तो बदला लेने का भी अधिकार है। अमरिंदर सिंह अपने फार्म हाउस से सीएम हाउस पहुंच गए हैं और कुछ देर बाद वह फैसला लेंगे। माना जा रहा है कि वह पांच बजे होने वाली बैठक से पहले ही वह सीएम पद के साथ-साथ कांग्रेस से भी इस्तीफा दे सकते हैं। वहीं सिद्धू गुट का दावा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) से आलाकमान ने इस्तीफा मांगा है।

परगट सिंह ने कही ये बात

पंजाब कांग्रेस के महासचिव और विधायक परगट सिंह से जब उन खबरों के बारे में पूछा गया कि क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटने के लिए कहा गया है और अंबिका सोनी, सुनील जाखड़ और अन्य के नाम सीएम के लिए संभावित रूप से सामने आ रहे हैं? तो उन्होंने कहा कि बैठक (सीएलपी मीट) बुलाई गई है। बैठक में सभी बातों पर चर्चा होगी।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here