केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह गुरुवार को गोवा में थे। उन्होंने कश्मीर में हालिया आतंकी गतिविधियों को लेकर एक बार फिर पाकिस्तान पर हमला बोला। शाह ने कहा- पाकिस्तान कश्मीर में दखल देने की गलती न करे। वो अपनी हद में रहे। अगर पड़ोसी मुल्क ने अपनी सीमाएं लांघीं तो भारत एक और सर्जिकल स्ट्राइक करने से पीछे नहीं हटेगा।

देश की सीमाओं पर हमला बर्दाश्त नहीं
अमित शाह ने दक्षिण गोवा के धारबांदोड़ा में राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय (NFSU) की आधारशिला रखी। इसके बाद एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश की सीमाओं पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘पुंछ में जब हमला हुआ तो पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक कर भारत ने दुनिया को बता दिया कि भारत की सीमाओं के साथ छेड़छाड़ करना इतना आसान नहीं है। नरेंद्र मोदी और मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में पहली बार भारत ने अपनी सीमाओं की सुरक्षा और सम्मान साबित किया।’

पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को किया याद
शाह ने सभा में पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री रहे दिवंगत मनोहर पर्रिकर को याद किया। उन्होंने कहा, ‘पूरा देश मनोहर पर्रिकर को दो चीजों के लिए हमेशा याद करेगा। उन्होंने गोवा को उसकी पहचान दी और दूसरा उन्होंने तीनों सेनाओं को वन रैंक, वन पेंशन दिया।’

गोवा में अगले साल चुनाव
गोवा में अगले साल चुनाव होने वाले हैं। अमित शाह के दौरे को चुनावी तैयारियों से जोड़कर देखा जा रहा है। गोवा के पार्टी अध्यक्ष सदानंद शेत तनवड़े के अनुसार, शाह का भाजपा की राज्य कोर कमेटी, विधायकों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ पार्टी की कई बैठकें करने का भी कार्यक्रम है। इससे पहले राज्य के चुनाव प्रभारी और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने बुधवार को शाह के दौरे से पहले तैयारियों का जायजा लिया था।

कांग्रेस के अलावा TMC और आप भी चुनावी मैदान में
गोवा में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के अलावा ममता बनर्जी की TMC और अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी भी चुनावी मैदान में है। ममता बनर्जी ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे लुइजिन्हो फलेरो को पार्टी में शामिल कराकर अपने इरादे जता दिए हैं। ममता खुद गोवा में चुनाव प्रचार भी करेंगी।

इसके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल भी अपने वादों के साथ लोगों को लुभाने की तैयारी में लगे हुए हैं। केजरीवाल ने सत्ता में आने पर प्राइवेट सेक्टर में 80% नौकरियां स्थानीय लोगों को देने, बिजली, पानी मुफ्त देने समेत कई वादे कर चुके हैं। वहीं कांग्रेस की कमान इस बार पार्टी ने पी. चिदंबरम को दी है।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here