डॉ. नवीन जोशी

भोपाल।राज्य के जल संसाधन विभाग के अंतर्गत कार्यरत वृह्द परियोजना नियंत्रण मंडल ने मेसर्स डबरा एल्कोब्रियु प्रा. लि. को उसके दतिया जिले में ग्राम वडोनकला में स्थापित किये जा रहे ग्रेन पर आधारित ईथेनॉल प्रोडक्शन प्लांट को सिंध नदी से 0.365 मिलियन घनमीटर वार्षिक जल का आवंटन किया है।

इसी प्रकार, मेसर्स डॉलेक्स एग्रोटेक प्रालि को ग्राम एरई तहसील बडौनी जिला दतिया के पास स्थापित ईथेनॉल प्लांट के लिये सिंध नदी से 0.40 मिलियन घनमीटर वार्षिक जल आवंटित किया गया है। इसके अलावा, मेसर्स श्री बालाजी बायो साल्युशन फ्यूलस एलएलपी के ग्राम डीमरझोझी तहसील शाहपुरा जिला जबलपुर के पास स्थापित ईथेनॉल प्लांट के लिये नर्मदा नदी से 0.22 मिलियन घनमीटर वार्षिक जल आवंटित किया गया है। मेसर्स जिरकॉन एउवंस फ्यूल्स प्रालि को ग्राम कुंडला आगर तहसील आगर जिला आगर मालवा के पास स्थापित ईथेनॉल प्लांट के लिये पिपलिया कुमार बांध से 0.36 मिलियन घनमीटर वार्षिक पानी दिया गया है।
इसी प्रकार, मेसर्स सांघी इन्फ्रास्ट्रक्चर मप्र लि. अहमदाबाद को कटनी जिले के विजयराघवगढ़ स्थित सांघी ग्राम में प्रस्तावित सीमेंट प्लांट हेतु महानदी से 3.30 मिलियन घनमीटर वार्षिक जल स्वीकृत किया है। इधर इंदौर जिले की ग्राम पंचायत सिन्दोडा को नर्मदा मालवा गंभीर लिंक परियोजना की ग्रेविटीमेन नहर से 0.3 मिघमी वार्षिक जल आवंटित किया गया है।
उक्त के अलावा, मप्र जल निगम को रीवा जिले की विन्ध्यक्षेत्र समूह जल प्रदाय योजना के लिये टमस नदी से 30 मिघमी वार्षिक पानी, पेयजल योजना हेतु मप्र जल निगम को सीधी जिले की विन्ध्यक्षेत्र समूह जल प्रदाय योजना के लिये गुलाब सागर बांध से 13 मिघमी वार्षिक जल, मेसर्स आईजी बैरिज प्रा.लि. मुम्बई को छिन्दवाड़ा जिले की अमरवाड़ा तहसील के ग्राम घाट पिपरिया में स्थित ब्लूबैरी फ्रूट्स क्राफ्ट फैक्ट्री हेतु रीछननाला (चिमौआ) जलाशय से 0.054 मिघमी वार्षिक पानी, सागर जिले की शाहपुरा नगर परिषद की पेयजल आवर्धन योजना हेतु साजली नदी से 0.47 मिघमी वार्षिक पानी, पीएचई खण्ड बालाघाट के कार्यपालन यंत्री को विकासखण्ड लालबर्रा के 102 ग्रामों की समूह नलजल प्रदाय योजना के लिये ग्राम छिन्दलई के समीप वैनगंगा नदी से 6.18 मिघमी वार्षिक जल तथा मेसर्स विसाग बायोफ्यूल प्रा. लि. बालाघाट को ग्राम खापा तहसील वारासिवनी जिला बालाघाट में प्रस्तावित बायोफ्यूल प्लांट के लिये चंदन नदी से 0.15 मिघमी वार्षिक जल का आवंटन किया गया है।
इधर मेसर्स हिण्डाल्को इण्डस्ट्रीज लि. के जिला सिंगरौली में स्थित एल्युमीनियम स्मेल्टर एवं केप्टिव पावर प्लांट हेतु द्वितीय चरण में रिहन्द जलाशय से आवंटित 9.22 मिघमी वार्षिक जल के उपयोग की समय सीमा बढ़ाकर जनवरी 2023 कर दी गई है।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here