बड़ौदा अहीर/मध्य प्रदेश में राज्य सरकार का जनजातीय प्रेम लगातार जारी है और बिरसा मुंडा जयंती पर हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम रानी कमलापति करने के फैसले के बाद अब पातालपानी का नाम टंट्या भील करने का ऐलान किया गया है। बड़ौदा अहीर में गौरव यात्रा का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  की और बताया कि इसका प्रस्ताव रेल मंत्रालय को भेजा गया है। सीएम ने इंदौर में एक चौराहे को टंट्या चौराहा तो आईएसबीटी का नाम भी उनके नाम पर करने की घोषणा की।

कांग्रेस ने एक ही खानदान का नाम रोशन किया
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा एक ही खानदान के नाम को रोशन किया। आदिवासी यूनिवर्सिटी बनाई भी तो उसका नाम जनजातीय वर्ग के महान नेता के नाम पर नहीं बल्कि इंदिरा गांधी का नाम दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इतिहास में कभी बिरसा मुंडा, टंट्या मामा भील जैसे जनजातीय समाज के किसी भी व्यक्ति के बारे में नहीं पढ़ाया गया। इस ऐतिहासिक गलती को भाजपा सुधारेगी और परतंत्रता के समय जनजातीय समाज के जिन लोगों ने बलिदान दिया उसे भी पढ़ाया जाएगा।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here