पटना: बिहार विधान सभा चुनाव के नतीजे (Bihar Election Result 2020) सामने आ गए हैं और एनडीए (NDA) 125 सीटों पर जीत के साथ पूर्ण बहुमत हासिल करने में कामयाब रही, जबकि महागठबंधन 110 सीट ही जीत पाई. एनडीए की जीत के सबसे बड़े नायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) बने और ‘मोदी मैजिक’ ने तेजस्वी यादव के मुख्यमंत्री बनने का सपना तोड़ दिया. चुनाव में बीजेपी (BJP) ने 74 सीटों पर जीत दर्ज की, जबकि जेडीयू (JDU) को 43 सीटें मिलीं और राजद (RJD) ने 75 सीटों पर जीत दर्ज की, लेकिन उसकी सहयोगी कांग्रेस 19 सीटों पर सिमट गई.

फिर चला मोदी मैजिक
बिहार विधान सभा चुनाव में एक बार फिर मोदी मैजिक (Modi Magic) ने काम किया. 15 साल से लगातार बिहार में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार है, ऐसे में जनता को सरकार से जो थोड़ी बहुत नाराजगी थी उसे भी ब्रांड मोदी (Brand Modi) ने खत्म कर दिया.

ये रहे NDA की जीत के 5 कारण
1. जब लोग तेजस्वी यादव की रैलियां देखकर चुनाव में जीत-हार का अंदाजा लगा रहे थे, तब नरेंद्र मोदी ने बिहार में 12 रैलियों से भरोसा जताया कि जीत सुशासन के अनुभव की होगी.
2. नरेंद्र मोदी ने तेजस्वी को जंगलराज का युवराज कहते हुए बिहार को लालू यादव के 15 साल में जंगलराज की याद भी दिलाई और परिवारवाद के मुकाबले विकासवाद को खड़ा किया.
3. पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बिहार को विकासवाद के मुद्दे से जोड़ा. डबल युवराज के मुकाबले डबल इंजन का नारा दिया और भ्रष्टाचार मुक्त सुशासन पर भरोसा बढ़ाया. बिहार को अहंकार की हार और परिश्रम की जीत के नारे के साथ जोड़ा.
4. बिहार में नीतीश सरकार विरोधी लहर को नरेंद्र मोदी ने बेअसर किया और रोजगार के भरोसे के साथ बिहार को बताया कि विपक्ष को भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारों से डर क्यों लगता है ?
5.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने विपक्ष के हर सवाल का जवाब दिया और केंद्र की योजनाओं से मिले लाभ की वजह से भी एनडीए के पक्ष में भारी मतदान हुआ.

बिहार में जीत सरकार के काम पर मुहर
बिहार चुनाव (Bihar election results 2020) ने फिर साबित कर दिया, कि भारत में भरोसे की राजनीति के सबसे बड़े ब्रांड एंबेसडर नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) हैं. बिहार की चुनावी रैलियों में मोदी ने जो कहा, लोगों ने उस पर वोट दिया. बीजेपी भले नीतीश के नेतृत्व में चुनाव लड़ी, लेकिन पूरे चुनाव के नेतृत्व नरेंद्र मोदी ही कर रहे थे. बिहार चुनाव में बीजेपी की जीत कोरोना के वक्त मोदी सरकार के काम पर मुहर है. चीन की गुरुर की गर्दन तोड़ने पर पहला जनमत है और आत्मनिर्भर भारत के अभियान पर विजय दस्तक है.

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here